उत्तराखण्ड

लगातार बरसात के चलते गौला का जलस्तर बढ़ने से श्रीलंका टापू में हुआ भारी भू कटाव…………… यूएस नगर से होकर गांव में जाने को मजबूर ग्रामीण………… पढ़ें एक्सक्लूसिव स्टोरी……………

गौला नदी का जलस्तर बढ़ने से श्रीलंका टापू क्षेत्र में शुरू हुआ जबरदस्त भू कटाव, कांग्रेसी नेताओं ने किया यूएस नगर की ओर से श्री लंका टापू का भ्रमण

लालकुआं। पर्वतीय क्षेत्रों में हो रही लगातार बरसात के चलते गौला नदी का का जल स्तर बढ़ गया है, जिसने खुरियाखत्ता समेत श्रीलंका टापू में भी कटान शुरू कर दिया है, उधम सिंह नगर के रास्ते श्रीलंका टापू पहुंचे कांग्रेसी नेताओं ने वहां के ग्रामीणों की समस्याएं सुनने के बाद जिला प्रशासन से अभिलंब ग्रामीणों की मदद की गुहार लगाई है।
वरिष्ठ कांग्रेसी नेता राजेंद्र सिंह खनवाल के नेतृत्व में उधम सिंह नगर जनपद के किच्छा होते हुए शक्ति फार्म के रास्ते से श्रीलंका टापू पहुंचे कांग्रेसी नेताओं ने श्रीलंका टापू के निवासियों की समस्याएं सुनी। कांग्रेसी नेता राजेंद्र खनवाल के अनुसार श्रीलंका टापू में कई ग्रामीणों की जमीन गौला नदी में समा चुकी है, जिसमें मंगल सिंह कोरंगा का सबसे अधिक नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड कैबिनेट की बैठक हुई संपन्न……………. राज्य के विशेषज्ञ डॉक्टरों एवं मिनिस्ट्रियल कर्मचारियों समेत इन 11 महत्वपूर्ण मामलों में लिए गए यह निर्णय………………..

विदित रहे कि वर्ष
1984 की अतिवृष्टि में उफनाई गौलानदी ने बिन्दुखत्ता के खुरियाखत्ता गांव के एक हिस्से को बीच से अलग कर दिया था, जिससे वह टापू नुमा टीला बन गया, उस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों ने उक्त क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण किया तो उसे श्रीलंका टापू नाम दिया गया, जो कि बाद में सार्वजनिक रूप से प्रचलित हो गया, जबकि इस क्षेत्र में स्कूल, डेयरी, किसानों की उपजाऊ भूमि के लिए आर्टीजन आदि सुविधा उपलब्ध थी, लेकिन राज्य निर्माण के बाद सन् 2011में एक बार फिर से और भयानक अतिवृष्टि हुई, जिसमें बच्चों का स्कूल गौला नदी में समा गया, उसके बाद से बरसात में यहां के वाशिदे़ दहशत में रहते हैं, बाकी जंगली जानवरों का भय भी यहां बना रहता है, श्रीलंका टापू का निरीक्षण कर लौटे कांग्रेसी नेता राजेंद्र सिंह खनवाल का कहना है कि वहां की स्थिति अत्यंत खराब है और वहां तेजी से भू कटाव हो रहा है, इसमें ग्रामीणों की जमीने नदी में समा रही है, उन्होंने शासन प्रशासन से अभिलंब श्रीलंका टापू का संज्ञान लेते हुए उनकी मदद की गुहार लगाई है। क्योंकि तेजी से ग्रामीणों की फसलें तबाह हो रही है और उक्त क्षेत्र में बाढ़ सुरक्षा दीवार या तटबंध का निर्माण आवश्यक है। श्रीलंका टापू का भ्रमण करने वालों में कांग्रेसी नेता राजेन्द्र खनवाल के अतिरिक्त कुन्दन दानू, लाल सिंह दशौनी, समाजसेवी त्रिलोक सिंह मेहता, रमेश राणा, उमेश महरा, हीरा सिंह कोरंगा, केदार दशौनी, हरीश महरा, जसौद सिंह आदि सम्मिलित थे।
फोटो परिचय- गौला नदी से श्रीलंका टापू की ओर हो रहे जबरदस्त भू कटाव का निरीक्षण करते कांग्रेसी नेता राजेंद्र खनवाल व अन्य

To Top