उत्तराखण्ड

नेपाल निवासी संप्रदाय विशेष का युवक भगा लाया किशोरी………….. नैनीताल जिले की पुलिस ने की यह कार्रवाई…………..

हल्द्वानी। नेपाल से किशोरी को भगाकर लाने के आरोपी नेपाल के युवक के खिलाफ पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। आरोपी को जेल, जबकि किशोरी को नारी निकेतन भेजा गया है।

एसएसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने बताया कि मोहम्मद इसराफिल अंसारी उर्फ दारा अंसारी परसाबीरगेज नेपाल का रहने वाला है। वह भीमताल में काम के सिलसिले में आता-जाता रहता है। उसकी नेपाल की ही दूसरे समुदाय की एक लड़की से सात महीने पहले दोस्ती हुई थी। 11 दिसंबर को उन्होंने नेपाल में शादी कर ली। इसके बाद दोनों भीमताल आ गए। 11 दिसंबर को नेपाल में युवक के खिलाफ में किशोरी को भगा ले जाने का मुकदमा भी दर्ज है। कहा कि किशोरी नेपाल जाना चाहती थी। इसराफिल उसे जाने नहीं दे रहा था। एक दिन उसने अपने रिश्तेदारों को कॉल कर बता दिया। इससे उसकी लोकेशन भीमताल मिल गई। मिशन मुक्ति फाउंडेशन के निदेशक वीरेंद्र कुमार टीम के साथ भीमताल पहुंचे। उन्होंने पुलिस से सहयोग मांगा तब आरोपी को पकड़ लिया गया। किशोरी के बयान लिए गए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  हादसा:-लालकुआं में विद्युत लाइन दुरुस्त करते समय लाइनमैन करंट लगने से पोल से गिरा........... गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती................

नाबालिग लड़की से शादी करने के मामले में मोहम्मद इसराफिल को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों नेपाल निवासी हैं। इंस्टाग्राम से दोनों की दोस्ती हुई थी। उन्होंने नेपाल में ही शादी कर ली थी। मिशन मुक्ति फाउंडेशन ने चार मार्च को नैनीताल पहुंचकर शिकायत की थी। इसी आधार पर यहां मुकदमा किया गया है। आरोपी पर पॉक्सो सहित कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया है। नाबालिग को नारी निकेतन भेजा गया है। केरल ले जाने वाली बात सामने नहीं आई है। -प्रहलाद नारायण मीणा एसएसपी नैनीताल।

यह भी पढ़ें 👉  नैनीताल जनपद में इस दिन आ सकता है आंधी तूफान ..............अधिकारियों को किया अलर्ट.............आपातकाल स्थिति में डायल करें यह टोल फ्री नंबर.............

सोशल मीडिया और समाचार पत्र में एक मुस्लिम युवक ने नेपाली किशोरी से घोड़ाखाल मंदिर में शादी करने की गलत सूचना प्रकाशित की गई है। मंदिर में हिंदू जोड़े ही रीति रिवाज और परिजनों की सहमति और मौजूदगी में मंदिर के नियमों के तहत ही शादी करते हैं। घोड़ाखाल मंदिर के लिए इस तरह की खबर प्रकाशित करके गलत संदेश नहीं दिया जाना चाहिए। -रमेश जोशी मुख्य पुजारी गोलज्यू मंदिर घोड़ाखाल

To Top